समय अत्यंत ही बलवान है, समय का सदुपयोग हमारे जीवन को प्रकाश से भर सकता है। समय का महत्व हम अपने दैनिक जीवन में समझना ही नहीं चाहते। 

लेकिन यदि तनिक धैर्य के साथ हम समय के महत्व को समझ ले तो शायद हमारे भविष्य के रास्ते अभी से उज्वल हो जाये। 

खैर यदि बाल्य काल में जब बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे होते है तब उन्हें निबंध के जरिये समय का महत्त्व सिखाया जा सकता है। अतएव उन्हें ये निबंध पढ़ने एवं बार-बार लिखने के लिए प्रेरित करे। 


समय के महत्त्व पर निबंध


भमिका : फ्रेंकलिन का कथन है - ' तुम्हें अपने जीवन से प्रेम है . तो समय को व्यर्थ मत  गवाओ और समय के महत्व को समझो इसके साथ ही समय का सदुपयोग करना सीखो।  

क्योंकि जीवन इसी से बना है । ' समय को नष्ट करना जीवन को नष्ट करना है । समय ही तो जीवन है । समय मनुष्य को अनुसाशन का महत्व भी सिखाता है। 

ईश्वर एक बार एक ही क्षण देता है और दूसरा क्षण देने से पहले उसको छीन लेता है। 

समय ही एक ऐसी वस्तु है जिसे खोकर पुन : प्राप्त नहीं किया जा सकता। समय का कोई मोल नहीं हो सकता। 


Samay ka mahatw , samay ka sadupyog


श्रीमन्नारायण ने लिखा है - ' समय धन से कहीं अधिक महत्त्वपूर्ण है। हम रुपया - पैसा तो कमाते ही हैं और जितना अधिक परिश्रम करें उतना ही अधिक धन कमा सकते हैं। 

परन्तु क्या हजार परिश्रम करने पर भी चौबीस घंटों में एक भी मिनट बढा सकते हैं ? 

इतनी मूल्यवान वस्तु का धन से फिर क्या मुकाबला। ' इससे समय के महत्व पर स्पष्ट प्रकाश पड़ता है ।

जिन्होंने भी समय के महत्व को चुनौती दी और अपने आप को समय के कालचक्र से मुक्त करने की कोसिस की। उन्हें समय ने औंधे मुंह गिराया।

वक्त का पाबंद व्यक्ति ही अपने जीवन मे सफलता के मुकाम को हासिल कर सकता है। 

जो कोई भी समय की पाबंदियों को मानने से इनकार करता है। वक्त भी उसके साथ बड़ी ही बेरहमी से पेश आता है।

कई लोग आज समय के महत्व को नजरअंदाज करते हैं। उन्हें ये बात सीखनी होगी। कि समय सबसे अमूल्य वस्तु है। अगर ये एक बार निकल गया तो वापस नही आएगा।

इतिहास गवाह है, जिस किसी ने भी समय की कद्र की वो सफलता की ऊंचाइयों को छूते चले गए और जिसने भी समय को ठुकराया उनकी हस्ती मिट गई। उनके नामों निसान तक जमींदोज हो गए।


समय के सदुपयोग का अर्थ है - उचित अवसर पर उचित कार्य पूरा कर लेना । जो लोग आज का काम कल और कल का काम परसों पर टालते रहते हैं , वे एक प्रकार से अपने लिए जंजाल खड़ा करते चले जाते हैं। 

मरण को टालते - टालते एक दिन सचमुच मरण आ ही जाता है। जो व्यक्ति उपयुक्त समय पर कार्य नहीं करता , वह समय को नष्ट करता है। एक दिन ऐसा आता है , जबकि समय उसको नष्ट कर देता है। 

जो छात्र पढ़ने के समय नहीं पढ़ते , वे परिणाम आने पर रोते हैं।


समय का महत्त्व  | समय का सदुपयोग essay in hindi

समय रुकता नहीं। जिसे समय का उपयोग करना है , उसे तैयार होकर उसके आने का अग्रिम इन्तजार करना चाहिए। 

जो समय के निकल जाने पर उसके पीछे दौड़ते हैं , वे जिन्दगी में सदा घिसटते - पिटते रहते हैं । समय सम्मान माँगता है । इसलिए कबीर ने कहा है -


काल करै सो आज कर , आज करै सो अव ।

पल में परलय होगा , बहुरि करेगा कब । । 


जो जाति समय का सम्मान करना जानती है , वह अपनी शक्ति को कई गुणा बढ़ा लेती है। 

यदि सभी गाडियाँ अपने निश्चित समय से चलने लगें तो देश में कितनी कार्यकुशलता बढ़ जाएगी। 

यदि कार्यालय के कार्य ठीक समय पर सम्पन्न हो जाएँ , कर्मचारी समय के पाबंद हों तो सब कार्य सुविधा से हो सकेंगे। 

यदि रोगी को ठीक समय पर दवाई न मिले तो उसकी मौत भी हो सकती है । 

अतः , हमें समय की गंभीरता को समझना चाहिए । 

गाँधीजी एक मिनट देरी से आनेवाले व्यक्ति को क्षमा नहीं करते थे । आप ही सोचिए , सृष्टि का यह चक्र कितना नियमित है , कितना समय का पाबंद है ? 

यदि एक भी दिन धरती अपनी धुरी पर घूमने में देरी कर जाए तो परिणाम क्या होगा ? विनाश ! महाविनाश ! 

अतः , हमें समय की महत्ता को समझना चाहिए ।


समय का प्रबंधन सीखें 

समय को बर्बाद न करने के लिए याद रखें और अपने जीवन की योजना बनाकर इसे मूल्य देना सीखें, छोटे, मध्यम और लंबे दोनों शब्दों में, जिसके लिए आपको निम्नलिखित युक्तियों की आवश्यकता होगी:


    1. लक्ष्यों, उद्देश्यों और प्राथमिकताओं को पहचानें
    2. संगठन और समय की योजना के संदर्भ में सामान्य प्रथाओं को जानें
    3. अपने काम के जीवन चक्र को पहचानना सीखें और ऐसी योजना को अपनाएँ
    4. अपने लक्ष्यों, उद्देश्यों और प्राथमिकताओं को प्राप्त करने के लिए सबसे उपयुक्त रणनीतियों का चयन करें
    5. समय प्रबंधन में पर्याप्त कौशल प्राप्त करें

7 आदते जो समय के महत्त्व को समझायेंगी 

    1. सक्रियता। यह आपको ज़िम्मेदार बना देगा, आपको समय में स्वतंत्रता देगा
    2. मन में एक अंत के साथ शुरू करो। यह एक व्यक्तिगत नेतृत्व की आदत होगी जो आपके जीवन को अर्थ प्रदान करेगी
    3. प्राथमिकता वाली बातें पहले करें। यह आपको प्राथमिकता देगा कि सबसे जरूरी क्या है
    4. जीत / जीत सोचो। आपको इक्विटी में ले जाता है
    5. समझें और फिर समझें।  आपके पास प्रभावी संचार होगा
    6. सिनर्जी। आप अन्योन्याश्रितता के माध्यम से कई उपलब्धियों को पूरा करेंगे
    7. आरी में धार लगाना। निरंतर सुधार और नवीनीकरण में आपकी सहायता करता है

समय का महत्त्व निबंध ( 600 शब्द )


संसार में समय की महिमा सर्वत्र गायी गई है। 

संसार की सभी वस्तुओं में समय ही सबसे अधिक बलवान है। 

इतिहास गवाह है कि जिसने भी समय के महत्व को समझा वह जीवन में सफल रहा। 

महापुरूषों के जीवन का अध्ययन करने पर ज्ञात होता है कि उन्होंने समय के महत्व को समझा और इसके सहारे अपने चरम लक्ष्य की प्राप्ति की। 

समय की गति अबाध रूप से बढ़ती चली जाती है। 

उसे मानव - शक्ति कभी रोक नहीं सकी है। 

यह सत्य है कि छूटा हुआ वाण , कही हुई बात और बीता हुआ समय पुनः वापिस नहीं आते। 

अत : समयानुसार आवश्यक और उचित कार्य करना ही समय के महत्व को समझना है।

समय के साथ खुद को बदलना है जरुरी 

जैसे मनुष्य जीवन का प्रथम चरण यानी बीस - पच्चीस वर्ष की अवस्था अध्ययन और ज्ञान प्राप्ति का समय है। 

इस अवस्था में मनुष्य अपने भावी जीवन की तैयारी करता है। उसे इस समय हर प्रकार के ज्ञान तथा शारीरिक पुष्टता से अपने को सक्षम बनाने का प्रयास करना चाहिए। 

जो व्यक्ति इस समय के महत्व को नहीं समझता , वास्तविक कर्तव्यों को दृष्टि में रखकर कार्य नहीं करता उसे अपने जीवन में समय के महत्व को समझते हुये आवश्यक कार्य करना चाहिए क्योंकि समय बीत जाने पर फिर नहीं आता। 

अत : मनुष्य बंकार हो जाता है। 

सफलता की कुंजी है समय 

समय के महत्व को अच्छी तरह समझ कर कार्य करने से मनुष्य को सफलता प्राप्त होती है। 

समय के महत्व को समझना ही उन्नति की कुंजी है। 

जो मनुष्य समयानुसार कार्य की आदत डाल देता है उसे किसी प्रकार की कठिनाई का अनुभव नहीं होता है। 

ऐसे लोगों में समयानुसार काम करने की क्षमता आ जाती है और वे निर्णयात्मक बुद्धि से अपने कार्य को सही समय पर सम्पादित कर लौकिक जीवन सफल बनाते हैं। 

समय के महत्व को समझ कर समयानुसार काम करने वालों की गति - विधि में समन्वय तथा समरसता रहती है अतः उनका पारिवारिक जीवन सुखमय बन जाता है तथा उन्हें सदा आत्मशान्ति मिलती रहती है। समाज में सम्मानित होते हैं ।

 इस प्रकार वे समय के महत्व को समझकर तथा समय का विभाजन करके उससे अधिक से अधिक लाभ उठाते हैं और जब जिस काम का अवसर रहता है , तब वे उसी काम को करकं अपनी क्षमता बढ़ाते हैं तथा समयानुसार उन्हें अपने प्रयास का यथोचित फल प्राप्त होता है। 

समय के महत्व को बताते हुए कहा गया है कि जिसने लड़कपन में विद्याध्ययन नहीं किया . युवावस्था में धन नहीं कमाया वह वृद्धावस्था में क्या करंगा ? 

समय के महत्व को न समझकर कार्य करने के कारण मानव - जीवन में शक्ति ही नहीं आ पाती। 

उसका मन इतना चंचल और अव्यवस्थित हो जाता है कि समयानुसार वह काम नहीं कर पाता। 

जिसने जीवन के प्रारंभ से ही समय के महत्व को नहीं समझा , उसे कभी भी सफलता नहीं मिल पाती।

समय के महत्व को न समझकर कार्य करने का प्रभाव बहुत ही घातक हाता है। 

इसके कारण जीवन का प्रथम चरण विभिन्न प्रकार का अनुचित और हानिकारक भावनाओं का केन्द्र बन जाता है । उस व्यक्ति के जीवन में बर्बरता , उदण्डता और अव्यावहारिकता आ जाती है , 

अत : वह गृहस्थ जीवन के योग्य ज्ञान प्राप्त नहीं कर पाता , इस बड़े अभाव के कारण उसमें उचित कार्यक्षमता का अभाव हो जाता है । 

अत : न तो वह धन कमा पाता है , न पारिवारिक जीवन को सुखी बना पाता है। 

वह समाज में निन्दा का पात्र बनकर जीवन - यापन करता है। 

अतः जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए समय के महत्व को उचित ढंग से समझना होगा। समय का सम्मान करना पड़ेगा और सही समय पर सही कार्य करना होगा। 

सारतः यह कहा जा सकता है कि समय के महत्व को समझना सफलता की एकमात्र कुंजी है ।


नक्सलवाद की समस्या निबंध

परोपकार पर निबंध 

भारतीय चुनाव प्रक्रिया निबंध


अंतिम शब्द : समय का महत्व - समय का सदुपयोग

उपर्युक्त निबंध समय के महत्व और समय के सदुपयोग पर आधारित है। इनका प्रयोग आप किसी भी प्रकार के परीक्षा और कार्यक्रमों में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए कर सकते हैं । 

इसके साथ ही हमारे वेबसाइट के आर्टिकल्स पढ़ के आप समय का सदुपयोग कर सकते है।